बचपन सिलोचन पी रहा है

जब भी मैं,सडक के उस पार जाता हूँ , अपने मुल्क की हालत देख के डर जाता हूँ , देश नयी ज़िन्दगी जी रहा है ,और बदलते देश का बचपन सिलोचन पी रहा है , ना कोई पूछने वाला ना कोई जानने वाला, ना कोई देखने वाला ना कोई पालने वाला , कचरे के  ढेर

माँ

यहाँ जमाना आज अपनी माँ को याद कर् रहा था, और वो उस बूडी को आश्रम छोड़ आया है भूल गया की  उस बेचारी ने पेट काटके पाला था, आज पड गया भारी उस का पेट तो उसे अकेला छोड़ आया है, रो रही है आज सब नय़ा नया देख कर वो, दिल नहीं लग

लगता है शहर मे चुनाव आ गया………

  किसी के हाथ मे शराब आ गई, तो किसी की थाली मे पुलाव आ गया, लगता है शहर मे चुनाव आ गया,   कोई हाथ जोडे़गा दरवाजे पर आकर तो, कोई पैर छूएगा दरवाजे पर आकर, जो अकड़ते चहरे कुछ दिन पहले, अाज उनमें झुकाव आ गया, लगता है शहर मे चुनाव आ गया,   वो नाली भी साफ हो गई जो काफी दिन से गंदी पड़ी थी, सज गई है ये गली अब जो अंधेरे मे पड़ी थी, कभी पानी की बुन्दों को तरशता था मोहल्ला हमारा, आज यहाँ पानी का शैलाब आ गया, लगता है शहर मे चुनाव आ गया,   आज फिर से ये सफेद कपड़े वाले, माशुका की तरह वादे  कर रहे हैं, बिलजी, पानी, रोजगार की हामी भर रहे हैं, इंहोने ही करवाय़ा था करीम चाचा और मनोज भाई का झगड़ा पिछले साल, आज वही भाई की बात, कर रहे हैं, दरिन्दों के चहरे पे मासूमियत का नकाब आ गया, लगता है शहर मे चुनाव आ गया,   वही जुमले, वही  बाते, अब फिर किसी के साथ खाना खाया जायेगा, कुछ पैर छू लेंगे बड़े, बुजूर्गो के और फिर दलालो के ज़रिये उन तशवीरों को टी. वी पर दिखाया जायेगा किसी को साईकिल मिलेगी, तो किसी को सिलाई की मशीन, ओर इस तरह कुछ भोले लोगों को बेबकूफ बनाया जाये,

But the wedding goes on…….Pride and Honour

But the wedding goes on…….Pride and Honour – Ikbal Mohammad  Everyone was smiling that evening, Having filled their plates with variety of dishes. However many cosmetics faces with well dressed and suited booted. The charming lights with beautiful and charmed faces, young and newly wedded couple, aunties, uncles and relatives. More than two hundred people were