पर शायद ये अब भी उससे अंजान था

बरगद का पेड़!

May 11, 2018

बरगद का पेड़! – रवि’प्रत्युष’ नारायण सीढ़ियों के नीचे,दिवार के पीछे और गर्दन को मीचे, पिछले छः महीनों से मैं उसे देख रहा था, स्वभाव से शांत,चित्त और थका-हारा सा, शायद वक्त का मारा था। उम्र से दराज़ मग़र,पंक्तियो में सबसे पीछे, ख़याल से अठ्ठाइसवां रह होगा, मग़र चाल में अब भी वो मस्तानी थी, […]

Read More